Header Ads

स्वस्थ खाएं और रोगों से बचे

                     

स्वस्थ खाने का अर्थ सिर्फ भूखे रहना या हद से ज़्यादा पतला होना नहीं है बल्कि स्वस्थ खाने का मतलब है हमेशा ऊर्जा से भरपूर होना और अपने चित्त को हमेशा प्रसन्न रखना। स्वस्थ खाने को लेकर आपको काफी सारी अलग अलग जानकारी मिलती होगी जिसमें कुछ खाने को कोई स्वस्थ कहता है तो कोई अस्वस्थ जिसके चलते आप सोच में पड़ जाते है। लेकिन हमारे ये सरल टिप्स मान कर आप एक स्वस्थ और स्वादिष्ट आहार का आनंद ले सकते है जो कि आपके तन और मन दोनों के लिए अत्यन्त लाभदायक है।







            स्वस्थ खाने से आपके मन पर क्या प्रभाव पड़ता है

हम सब ये जानते हैं कि स्वस्थ खाने से हमारा वजन नियंत्रित रहता है और काफी सारी स्वास्थ्य की दिक्कत भी दूर रहती है लेकिन नियमित स्वस्थ आहार लेने से हमारे मन और मनोदशा पर भी काफी अच्छा प्रभाव पड़ता है। ताजे फल और हरी सब्जियों के नियमित सेवन से डिप्रेशन और अनेक तरह के मनोवैज्ञानिक रोग दूर रहते है।

          स्वस्थ  खाने में  क्या खाएं  

कुछ विशिष्ट खाने और पोषक तत्वों से हमारे शरीर मे लाभदायक फायदे दिखे है लेकिन सबसे जरूरी है एक अच्छे आहार पैटर्न को मानना। स्वस्थ खाने की सबसे पहली आधारशिला है प्रोसेस्ड खाने को असली खाने से बदलना। अगर आप खाने में प्रोसेस्ड खाने के बजाय प्राकृतिक खाएंगे तो वो आपके त्वचा और स्वभाव पर काफी अच्छा प्रभाव डालेगा।

           
           बनाये एक स्वस्थ संतुलित आहार


प्रोटीन : प्रोटीन हमें कार्य करने की ऊर्जा के साथ साथ संज्ञानात्मक कार्य करने में भी मदद देता है। शोधन से पता चला है कि बढ़ती उम्र के साथ हमे प्रोटीन की मात्रा भी बढ़ानी चाहिए हालांकि किडनी के मरीजों के लिए बहुत भारी मात्रा में प्रोटीन हानिकारक होता है।
डेयरी उत्पादों में प्रोटीन काफी मात्रा में पाई जाती है, दूध और दही में प्रोटीन काफी मात्रा में पाया जाता है।

बीन्स में भी प्रोटीन और फाइबर दोनो पाए जाते है।

दाल में भी प्रोटीन काफी मात्रा में होती है और दाल का सेवन नियमित रूप से करना चाहिए।
मांसाहारियों के लिए प्रोटीन का सबसे अच्छा स्रोत मछली है। मछलियों में पाए जाने वाले ओमेगा 3 फैटी एसिड स्वास्थ के लिए अत्यंत लाभदायक है। वैज्ञानिक हफ्ते में दो बार मछली खाने की सलाह देते है।

फैट : जहां एक तरफ कुछ हानिकारक फैट आपके आहार को अस्वस्थ और आपके लिए विभिन्न बीमारियों का खतरा बढ़ाते है वहीं दूसरी तरफ कुछ फैट आपके दिल और दिमाग के लिए काफी स्वस्थ होते है। ओमेगा 3s फैट आपके शरीर और दिमाग दोनो के लिए अत्यंत लाभदायक है और कमजोरी से लड़ने में भी मदद करता है।
ऑलिव आयल , बादाम, काजू, पीनट बटर में मोनो सैचुरेटेड फैट पाए जाते है जो कि आपके लिए लाभदायक है।

कार्बोहाइड्रेट : कार्बोहाइड्रेट हमारे शरीर के ऊर्जा का मुख्य स्रोत है। लेकिन इसमें भी कार्बोहायड्रेट दो तरह के होते है। रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट और काम्प्लेक्स कार्बोहायड्रेट। रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट हमारे ब्लड शुगर को बढ़ाता है और वेस्टलाइन के पास फैट भी जमा होने देता है जबकि दूसरी तरफ काम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट जैसे कि सब्जियां, अनाज और फल हमारे ब्लड शुगर को सही रखने में मदद करते है।

चावल, शकरकंद, आलू, गोभी और विभिन्न सब्जियों में कार्बोहायड्रेट का पर्याप्त स्रोत होता है। वाइट ब्रेड के जगह ब्राउन ब्रेड भी खाना लाभदायक है।

फाइबर : फाइबर से भरपूर खाने हमारे दिल की बीमारियों के खतरे को कम करता है और डायबिटीज के लिये भी अत्यंत फायदेमंद है। फाइबर से युक्त खाने आपकी त्वचा के लिए भी अत्यंत लाभदायक है और वजन घटाने में भी मदद करता है। हमे दिन में कमसे कम 21 से 28 ग्राम फाइबर का सेवन करना चाहिए लेकिन ज़्यादातर लोग इसका आधा का भी सेवन नही करते।

गेंहू फाइबर का एक अच्छा स्रोत है। इसके अलावा पालक, ब्रोकली, गाजर, राजमा और हरे चने में भी फाइबर पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है।
फल में सेब, नाशपाती, स्ट्राबेरी, केला और संतरा में फाइबर का अच्छा स्रोत पाया जाता है।


कैल्शियम : हमारे शरीर को कैल्शियम की ज़रूरत हड्डियों और दांतों को मजबूत बनाने के लिए होती है। जैसे जैसे हमारी उम्र बढ़ती है हमें कैल्शियम की और ज़रूरत पड़ती है। कैल्शियम की कमी के कारण ऑस्टपोरोसिस जैसी बीमारी हो सकती है। कैल्शियम की कमी से चिंता, अनिद्रा और थकान जैसे कई और रोग हो सकते है।

दूध कैल्शियम का सबसे अच्छा स्रोत है। 2 गिलास दूध का हमे नियमित रूप से सेवन करना चाहिए। इसके अलावा ब्रोकली, चीज़ और योगर्ट में भी कैल्शियम पाया जाता है।

       

इन चीज़ों को अपने आहार में शामिल कर के आपके शरीर और दिमाग दोनो पर अच्छा प्रभाव पड़ेगा। और हां, आपकी कोशिश होनी चाहिए कि ये सारी चीज़ें आप घर मे खुद से बनाये और बाहर के खाने से बचे। 3 महीनों में आपको फर्क समझ मे आने लगेगा और नियमित सेवन से आप बीमारियों से दूर रहेंगे। 

कोई टिप्पणी नहीं