Header Ads

बड़ा दुखदाई जोड़ों का दर्द

बड़ा दुखदाई जोड़ों का दर्द


आयुर्वेद के विद्वानों ने स्वस्थ रहने के लिए दिनचर्या, भोजन और व्यायाम को मुख्य आधार माना है। वात व्याधि के पनपते ही पाचन शक्ति क्षीण हो जाती है जो रोग को बढ़ाने में मददगार है। जोड़ो  का दर्द वास्तव में तो बुढ़ापे का लक्षण विपरीत दिनचर्या ने जवानों को भी इस श्रेणी में ला खड़ा किया ह किया है।







समय पर खाना नहीं। समय पर सोना। नहीं शीतल पदार्थ का सेवन। वातानुकूल वाहनों में रहना। भोजन के स्वाद पर अधिक पौष्टिकता पर कम ध्यान। अधिक बैठना। ....  ऐसी कई वजाहे  हैं जिनसे छोटी उम्र में ही यह बीमारी घर जाती है

यू बढ़ता है मर्ज:

यह रोग शरीर के निचले हिस्से से शुरू होता है जिसे पांव के टखने, घुटने, हाथ की कलाई के जोड़ प्रभावित होते हैं। रोगी को पेशाब आता है और कब्ज भी रहने लगता है। शीतल पदार्थों का त्याग ना करने, वायु वर्धक खानपान, इलाज में लापरवाही से यह रोग  भयानक होकर हृदय पर भी असर कर सकता है।


भोजन के बारे में:

भोजन सोने से एक-दो घंटे पहले किया जाए।  भोजन स्वादिष्ट तो हो लेकिन शीघ्र पचने वाला भी हो।  भूख से थोड़ा कम खाया जाए।  भोजन करने में शीघ्रता ना करें।  चबा चबा कर धीरे-धीरे खाएं। यथासंभव पानी कम पीये।  भोजन के बाद यथासंभव घूमे। सोने से पहले और उठने के बाद ईश्वर का स्मरण अवश्य करें।

जो मना है: उड़द की दाल, गोभी, दही, मूली, चावल, गाजर, टमाटर, अरबी, संतरा, नींबू ,कोल्ड ड्रिंक्स, तली चीजें, अचार।

खाने में ले: ताजा भोजन, करेला,चौलाई, मेथी, लौकी, सहजन की फली का साग, अंगूर, सेब, पपीता, अदरक, लहसुन, सौंफ। 

उपचार में :

शौच के बाद सवेरे लहसुन की  तीन कलियां कुचलकर पानी से लेना हितकर है।  जोगराज गुग्गुल, सिंहनाद गुग्गुल या पुननर्व गुग्गुल दो चम्मच गोली गर्म पानी से दिन में दो बार।  हिंग्वाष्टक चूर्ण एक चम्मच भोजन के बिच  देसी घी मिलाकर।  चित्रकादि वटी या अग्नितुंडी वटी एक से दो गोली भोजन के बाद गर्म पानी से।  बलारिष्ट  और दशमूलारिष्ट चार- चार चम्मच दवा बराबर पानी मिलाकर भोजन के बाद दो बार. मालिश के लिए महानारायण तेल या विषगर्भ तेल वृ. सैंध्य्वादी  तेल  उपयोगी है।  सेंकने के लिए गर्म की ईंट, गरम रेत या सूती कपड़े से गर्म करके बाजरा बांधकर सूखा सेक लाभकारी है।  पेट साफ करने के लिए एरंड पाक एक  चम्मच रात को दूध से लेना उपयोगी है। भोजन के बाद एक चम्मच लवण भास्कर चूर्ण गर्म पानी से लेने से पेट भारी नहीं रहता। कब्ज हो तो रात को सोते समय एक चम्मच पंचसकार चूर्ण या हरीतकी चूर्ण गर्म पानी से लेना हितकर है। सूजन वाली जगह एरंड के पत्ते से मालिश के बाद गर्म करने बांधना लाभकारी है। 

                                          वैद्य हरिकृष्ण पाण्डेय 'हरीश '                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                               

कोई टिप्पणी नहीं