Header Ads

इन दिनों आफत से राहत देते घरेलू नुस्खे

इन दिनों आफत से राहत देते घरेलू नुस्खे


गर्मी के मौसम में पसीना अधिक आने के कारण शरीर में पानी की कमी हो जाती है जिससे पेट में कई गड़बड़ हो जाती हैं, जैसे पतले दस्त, खूनी दस्त, उल्टी आदि।  यदि खानपान का ध्यान रखा जाए तो सब कुछ ठीक बना रह सकता है धूप में खाली पेट निकलना हानिकारक है। तेल पदार्थ, तेज मसाले, बासी भोजन, कटे फल दूषित पानी भी बीमारियों के ही दोस्त हैं।  इसी कारण कई बार आंतो में सूजन हो जाती है।  






प्राथमिक उपचार:- 

अनार का रस थोड़ा थोड़ा लगातार देने से लाभ होता है।  केला दही में मिलाकर देने से फायदा होता है।  नींबू-चीनी नमक की शिकंजी भी लाभ करेगी।  बेल का शरबत मुरब्बा रोग को नष्ट करने में मददगार है।  प्याज  को भूनकर रस निकालें दही में मिलाकर दें फायदा होगा।  दही के साथ चावल खाना हितकारी है।  बेल का चूर्ण 3 ग्राम की मात्रा में छाछ में देना उत्तम है।  दही छाछ का सेवन, ईसबगोल की भूसी दही में मिला कर देना, अनार के दाने चूसना, बेली गिरी का शरबत पीने में रामबाण हैं।  जितना तरल पदार्थ का सेवन किया जाए शरीर में पानी की मात्रा बढ़ेगी और रोगी को चैन मिलेगा अनार के छिलके का चूर्ण बनाकर एक चम्मच दिन में दो बार पानी से देने पर दस्तों में आराम मिलता है।  

छोटी इलायची के बीज का चूर्ण 1 ग्राम, 3 ग्राम बेलगिरी का चूर्ण में मिलाकर पानी देने से मरोड़ और दस्त में लाभ होता है खाने के बाद कुरजारिष्ट 4 चम्मच बराबर पानी से देना लाभकारी है।  जीरा पुदीना और नमक मिली छाछ बहुत लाभकारी है। मीठी लस्सी पीना हानिकारक है।  

वैद्य हरिकृष्ण पाण्डेय 'हरीश '


कोई टिप्पणी नहीं