Header Ads

खट्टा नींबू मीठा फायदे

खट्टा नींबू मीठे फायदे


बदलते मौसम में जुखाम होना आम बात है।  जुकाम सर्दी गर्मी के कारण होता है। आम बोलचाल में इसको सर्द - गर्म  भी कहते हैं। इसकी वजह है गर्म जलवायु और खान पान, जुकाम होने पर नाक से पानी गिरने लगता है। जुकाम का जोर  होने पर नाक का पानी गिरना बंद हो जाता है ऐसे  में साँस लेने में  कठिनाई होने लगती है।








कई बार तो जुकाम के साथ सिर दर्द भी होने लगता है।  कंपन होने लगता है छींके आती हैं आंखें लाल हो जाती है। आंखों से पानी निकलने लगता है। गले में दर्द होने लगता है।  हल्का बुखार होने लगता है पुराना होने पर स्वाद और सूंघने की शक्ति भी कम हो जाती है। ज्यों ज्यों रोग पुराना होता है सिर, नाक और गले के अतिरिक्त स्वास  नली में जलन, जकड़न, फेफड़ों में सूजन और हृदय पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ने लगता है।


  • विटामिन सी वाले फल का अधिक से अधिक सेवन करें। 
  • गले में दर्द होने पर गर्म पानी में नमक व हल्दी डालकर गरारे करने लाभदायक है।  
  • अदरक की चाय बना कर पीना, अदरक और तुलसी के पत्तों का रस निकालकर जरा सा गरम करके एक चम्मच शहद मिलाकर दिन में दो-तीन बार ले। 
  • एक चम्मच सोंठ का चूर्ण शहद में मिलाकर चाटने से लाभ होता है। नाक बंद हो तो एक चम्मच अजवाइन पानी में डालकर सूंघे  या भाप लें। 
  • सिर में दर्द हो तो दालचीनी को पानी में  घिसकर सिर पर लेप करना लाभकारी है। 
  • हल्दी चूर्ण एक चम्मच गुनगुने दूध में डालकर मिश्री मिलाकर देने से लाभ होता है।  लहसुन की दो कलियां एक चम्मच पानी में उबालकर चीनी मिला लेने से फायदा होगा। 
  • लौंग का चूर्ण दो चुटकी भर शहद में मिलाकर चाटने से लाभ होता है। 
  • प्याज़ के टुकड़े उबालकर जरा सा गुड़ डालकर दिन में दो बार लेने से तुरंत आराम मिलता है। 
  • जुकाम के शुरू में ही पीपल का चूर्ण शहद में मिलाकर चाटने से आराम मिलता है जुकाम का जोर नहीं बन पाता। 
  • छींके अधिक आती हैं तो जैतून का तेल 2-4 बूंद नाक में डालें। 

वैद्य हरिकृष्ण पाण्डेय 'हरीश '

कोई टिप्पणी नहीं