Header Ads

नुस्खों से जीतिए चेहरे के दुश्मनों को

नुस्खों से जीतिए चेहरे के दुश्मनों को


अक्सर सुंदर चेहरा कील मुहांसों की वजह से खराब हो जाता है. खानपान की लापरवाही ही चेहरे को विकृत करती हैं।







  1. उष्म प्रकृति का भोजन, मादक द्रव्यों का प्रयोग, उत्तेजित करने वाली फिल्में, अश्लील पुस्तके, लिंग के प्रति गहरी सोच, धूम्रपान तले और चटपटे मसालेदार पदार्थ, अचार, पेट की कब्ज, कृत्रिम सौंदर्य प्रसाधनों का प्रयोग, प्रतिदिन स्नान ना करना, बिना मेकअप उतारे सो जाना आदि से इस परेशानी की शुरुआत होती है। 
  2. एक दो कील चेहरे पर  उभरते ही कुछ लोग उनको नाखूनों से नोचते रहते हैं।  वास्तव में यह आदत घातक हो सकती है इस आदत से त्वचा में संक्रमण हो सकता है स्थान पर दाग पड़ सकता है। 
  3. यह केवल किशोर अवस्था वाले लड़के लड़कियों को ही होते हैं। इसका मुख्य कारण खानपान एवं अधिक कृत्रिम वह घटिया मेकअप का प्रयोग है। 
  4. प्राथमिक चिकित्सा में सबसे पहले खानपान में नियंत्रण करना चाहिए। कब्ज ना रहे इसके लिए ईसबगोल की भूसी, त्रिफला चूर्ण, पंचसकार चूर्ण रात को गर्म पानी से लेना चाहिए। 
  5. त्रिफला चूर्ण पानी  में भिगोकर रात को रखें और सवेरे उस पानी से चेहरा धो लें। कील मुहासों से खून आता हो या जलन हो तो जरा सी फूली फिटकरी पानी में घोलकर लगाएं। 
  6. अंडा, नींबू का रस, बेसन मिलाकर खूब घोट कर उबटन बना,मुँह पर लगाएं कुछ देर बाद हल्के गर्म पानी से मुंह धोये  तथा मुलायम कपड़े से हल्का दबाकर सुखाएं रगड़कर पहुंचना हानिकारक है। 
  7. नींबू का रस और शहद मिलाकर सवेरे पीने से पेट की गर्मी शांत होगी और इससे मुंहासों में आराम होगा।
  8. रात में 125 मिलीग्राम शुद्ध गंधक और 3 ग्राम त्रिफला चूर्ण लेने से खून साफ होगा। नीम के पत्ते पानी में उबालकर चेहरा धोना लाभकारी है। 
  9. दूध में शहतूत के छाल घिस कर लेप की तरह मुँह पर लगाने से मुंहासे में लाभ होता है।  शहद में सेंधा नमक और सिरका मिलाकर मुंहासों पर लगाना लाभकारी है। 
  10. भुना हुआ सुहागा और सफेद चंदन पानी में मिलाकर लेप करने से झाई, मुंहासे नष्ट होते है।  बादाम का तेल और जैतून का तेल बराबर मात्रा में लेकर उसमें 5 ग्राम गरम मोम  करके उनका मल्हम तैयार कर लें और चेहरे पर क्रीम की तरह लगाएं। इससे त्वचा साफ होगी, मुंहासे नष्ट होंगे । 
  11. छोटे पतीले में पानी उबालकर जैतून तेल की कुछ बूंदें डालकर चेहरे पर भाप लगाने से फोड़े फुंसी और मुंहासों में लाभ होता है। 
  12. सभी बीमारियों के बढ़ने या पनपने से पेट की मुख्य भूमिका है इसीलिए पेट को साफ रखना बेहतर है और सुपाच्य भोजन हमें अनेक परेशानियों से बचा सकता है। 

वैद्य हरिकृष्ण पाण्डेय 'हरीश '

कोई टिप्पणी नहीं