Header Ads

दही क्यों है सेहत के लिए इतना फायदेमंद

 दही खाने में जितनी स्वादिस्ट होती है उतनी ही सेहत के लिए लाभदायक भी है|  दही का इस्तेमाल  लगभग सभी घर में किया जाता है| क्या आप जानते है दही खाने से काफी सारी बीमारियों से बचा जा सकता है| रोजाना दही का इस्तेमाल करने से हमें त्वचा सम्बंधित रोग नहीं होते हैं|  और दही के इस्तेमाल से चेहरे की खूबसूरती भी बरकरार रखी जा सकती है| मोटापा को कम करने के लिए भी दही का काफी इस्तेमाल किया जाता है| दही हमारे शरीर को काफी ऊर्जा प्रदान करता है| आज हम आपको कुछ ऐसी बीमारियों के बारे में बताएंगे जिनको आप केवल दही के इस्तेमाल से घर पर ही ठीक कर सकते हैं|






एसिडिटी से राहत

गैस और एसिडिटी होने की समस्या पर दही का इस्तेमाल करना काफी फायदेमंद माना जा सकता है| दही में विटामिन सी की मात्रा अधिक होने के कारण हमें एसिडिटी और गैस से काफी जल्दी राहत मिलती है| कुछ घरों में इसका इस्तेमाल काफी सालों से किया जा रहा है| और कुछ लोग जानकारी के अभाव के कारण इसका इस्तेमाल नहीं कर पाते हैं| एसिडिटी होने पर दो से तीन चम्मच दही खाने से कुछ ही मिनटों में एसिडिटी से राहत मिलती है|
चहरे की खूबसूरती
 चेहरे को खूबसूरत बनाने के लिए भी दही का इस्तेमाल किया जाता है| दही का इस्तेमाल  काफी  तरीकों से किया जाता है| कुछ लोग यही को अपने नाश्ते के साथ सेवन करके अपने चेहरे की खूबसूरती को बरकरार रखते हैं|  और कुछ लोग दही और बेसन का पेस्ट बनाकर  चेहरे पर लगाते हैं जिससे चेहरा काफी सुंदर दिखने लगता है|और चेहरे पर दूरियां नजर नहीं आती है|

मोटापा कम करने में सहायक
 मोटापा कम करने के लिए भी दही का इस्तेमाल किया जाता है|  दही में संपूर्ण प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं| जो कि हमारे शरीर में वसा को  जमने नहीं देते हैं| इस वजह से हमारे शरीर मोटा नहीं होता हैऔर पहले से शरीर में होने वाली चर्बी को भी दही  पिघलाना शुरू कर देता है| जिसे कुछ ही दिनों में हमारे शरीर की सारी चर्बी खत्म हो जाती हैऔर वजन काफी कम होने लगता है|

शरीर को शक्ति प्रदान करे
 दही शरीर को काफी शक्ति प्रदान करता है| अगर हम केवल दही का इस्तेमाल करें तो दिन भर हमारे शरीर में ऊर्जा बनी रहेगी| दही में संपूर्ण प्रकार के विटामिंस, कार्बोहाइड्रेट, और  शरीर की जरूरतों के अनुसार पोषक तत्व मौजूद रहते हैं| जिससे हमारा शरीर काफी शक्तिशाली हो जाता है| और शरीर में हमेशा बनी रहती है|


कोई टिप्पणी नहीं