Header Ads

दाद की समस्या से हैं परेशान अपनाएं दादी मां द्वारा बताए गए घरेलू नुस्खे



 दाद की समस्या एक गंभीर समस्या मानी जाती है| गर्मियों में यह समस्या काफी अधिक देखने को मिलती है यह त्वचा में एक प्रकार का फंगल इंफेक्शन होता है| दाद होने पर त्वचा में छोटे-छोटे दाने या त्वचा अधिक लाल होना या त्वचा में गोल घेरे में सूखापन पढ़ना  दाद कहलाता है| दांत की समस्या आने पर त्वचा काफी अधिक सुखी हो जाती है |



 दाद की समस्या से निजात पाने के लिए अंग्रेजी दवाइयों से काफी अधिक समय लग जाता है| और कभी-कभी अंग्रेजी दवाइयों के अधिक समय तक सेवन करने से भी हमारी त्वचा शुष्क पड़ने लगती है| और  चेहरे की खूबसूरती भी कम होने लगती है|

 जो लोग दाद को ठीक करने के लिए लंबे समय तक अंग्रेजी दवाइयों का सेवन करते हैं| उनको  लिवर खराब होने की संभावना भी अधिक आती है| और जिन लोगों का लीवर खराब हो जाता है उनको किडनी स्टोन यानी  पत्थरी भी होने लगती है| और इससे पाचन तंत्र में भी कमजोरी आती है|

दाद की समस्या से निजात पाने के लिए घरेलू उपाय काफी अधिक फायदेमंद बताए जाते हैं| पुराने जमाने में हमारे बुजुर्ग लोग और हमारी दादी मां काफी अच्छे घरेलू नुस्खों के प्रयोग से  दाद की समस्या से काफी जल्दी राहत दिलाते थे| आज हम आपको दादी मां द्वारा बताए गए कुछ घरेलू नुस्खों से  अवगत कराएंगेउनमें से कुछ मुख्य घरेलू नुस्खे निम्नलिखित हैं|

लहसुन
दाद की समस्या होने पर लहसुन काफी अधिक फायदेमंद होता है| लहसुन के प्रयोग से  दाद  की समस्या से काफी जल्दी राहत मिलती है| जिन लोगों को त्वचा में  दाद  की समस्या आती है उन्हें लहसुन का पेस्ट बनाकर  दाद में लगाना चाहिए| इससे काफी जल्दी आराम मिलता है|
नीम
 नीम की पत्तियां आयुर्वेदिक दवा का एक रुप है| निम की पत्तियों के के सेवन से पेट की सारी बिमारियाँ ख़त्म हो जाती है| और  80% से अधिक  अंग्रेजी दवाइयों को बनाने के लिए भी नीम की पत्तियों का इस्तेमाल किया जाता है| दाद की समस्या से निजात पाने के लिए नीम की पत्तियां काफी अधिक फायदेमंद है|  नीम की पत्तियों का पेस्ट बनाकर दाद में लगाने से   दाद  से काफी जल्दी छुटकारा मिलता है|
नारियल का तेल
 दाद की समस्या से छुटकारा पाने के लिए नारियल का तेल भी काफी अधिक फायदेमंद माना जाता है| रात को सोते समय  नारियल तेल का इस्तेमाल त्वचा में करने से दाद की समस्या से आसानी से निजात पाया जा सकता है| नारियल तेल का इस्तेमाल  उत्तरी भारत में सबसे अधिक किया जाता है|


कोई टिप्पणी नहीं